भूमि परीक्षा

Rajkumar Jain

bhumi

280 View

भूमि परीक्षा

मकान आदि बनाने हेतु भूमि परीक्षा

मकान आदि बनाने की भूमि में २४ अंगुल गहरा गड्डा खोदकर निकली हुई मिट्टी से फिर उस ही गड्डे को पूरे। यदि मिट्टी कम हो जाय, गड्डा पूरा भरे नहीं तो हीन फल, बढ़ जाय तो उत्तम और बराबर हो जाय तो समान फल जानना।

 
अथवा उसी ही २४ अंगुल के गड्डे में बराबर पूर्ण जल भरे, पीछे एक सौ कदम दूर जाकर और वापिस लौटकर उसी ही जलपूर्ण गड्डे को देखे। यदि गड्डे में तीन अंगुल पानी सुख जाय तो अधम, दो अंगुल सुख जाय तो मध्यम और एक भंगुल पानी सुख जाय तो उत्तम भूमि समझना।
 
सफेद वर्ण की भूमि ब्राह्मणों को, लाल वर्ण की भूमि  क्षत्रियो को , पीले वर्ष की भूमि वैश्यों को और काले वर्ण की भूमि शुद्रों को, इस प्रकार अपने वर्ण के सद्दश रंगवाली भूमि सुखकारक होती है।


Related Post You May like

एक भगवान की एक से ज्यादा मूर्तियां ना रखें

Rajkumar Jain

851 View

मंदिर में हमेशा एक भगवान की मूर्ति रखे अगर कोई भी मूर्ति खण्डित हो जाएं, उसे चलते हुए पानी में प्रवाहित कर देना चाहिए।

Read More..

ईशान आग्नेय वायव्य नैऋत्य कोण

Rajkumar Jain

684 View

घर का उत्तर-पूर्व कोण वास्तु के अनुसार हर घर का ईशान कोण सबसे पवित्र स्थान माना जाता है।

Read More..